head1
head 3
head2

पी आर एस आई बढ़ाने की तैयारी में सरकार; पेंशन आयोग की सिफारिश से तीन लाख से अधिक लोग प्रभावित होंगे

डबलिन : सेवानिवृत्ति की उम्र बढ़ाने में हो रही देरी को देखते हुए सरकार कर्मचारियों के लिए पी आर एस आई बढ़ाने पर विचार कर रही है। यह कदम आयोग द्वारा सरकार को पेंशन की आयु बढ़ाने को स्थगित करने की सिफारिश के मद्देनजर उठाया गया है।

समझा जाता है कि नए दिशानिर्देशों के तहत आने वाले वर्षों में पी आर एस आई को लगातार वृद्धि का सामना करना पड़ेगा। उम्मीद है कि इस प्रस्ताव से स्वरोजगार करने वाले लोगों पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ेगा क्योंकि उनका योगदान चार से ग्यारह प्रतिशत तक बढ़ जाएगा। इस प्रस्ताव से ऐसे 3,31,000 लोगों पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ेगा। मालूम पड़ता है कि यह प्रस्ताव 2030 तक लागू नहीं होगा।

आयोग की सिफारिश इस प्रकार

देश में पेंशन की उम्र फिलहाल 66 साल है। आयोग की सिफारिश है कि 2028 के बाद पेंशन की उम्र में हर साल तीन महीने की बढ़ोतरी की जाए। आयोग 2031 में सेवानिवृत्ति की आयु बढ़ाकर 67 और 2039 में 68 करने की भी सिफारिश करता है। आर्थिक स्थिरता पर केंद्रित सुधार पैकेज में पी आर एस आई बढ़ाने और सरकारी फंडिंग बढ़ाने की भी सिफारिश की गई है।

आयोग यह भी सिफारिश करता है कि स्वरोजगार के पी आर एस आई हिस्से को 2030 तक 4% से बढ़ाकर 10% कर दिया जाए।

2030 तक कर्मचारियों या नियोक्ताओं की संख्या में कोई वृद्धि नहीं होगी। लेकिन आयोग का कहना है कि उसे 2040 तक अतिरिक्त 1.35 प्रतिशत का भुगतान करना होगा। रिपोर्ट में यह भी सिफारिश की गई है कि पेंशन पर खर्च की गई राशि का 10 प्रतिशत वार्षिक योगदान राजकोष में किया जाए। आयोग का गठन पेंशन प्रणाली की स्थिरता की जाँच के लिए किया गया था।

Leave A Reply

Your email address will not be published.